Sukh Karta Dukh Harta Aarti Lyrics in Hindi: श्री गणेश आरती जिसे श्री गणपति आरती के नाम से भी जाना जाता है, इसकी सबसे ज्यादा जरूरत लोगों को अगस्त और सितंबर के महीने में होती है। क्योंकि उस वक्त भारत का सबसे बड़ा त्यौहार गणेश चतुर्थी बड़े ही धूमधाम से पूरे देश में मनाया जाता है, जिससे लोगों के जीवन में खुशी की लहर दौड़ उड़ती है।
गणेश आरती का उपयोग किसी अन्य कार्यक्रम में भी किया जा सकता है, जैसे कि लोग किसी भी शुभ मुहूर्त से पहले या फिर अन्य भगवान की पूजा करने से पहले गणेश जी की पूजा करना श्रेष्ठ मानते हैं। श्री गणपति जी के सुखकर्ता दुखहर्ता आरती के बोल की तलाश कर रहे थे तो बिल्कुल सही जगह पर आ चुके हैं। क्योंकि यहां पर हम आपको हिंदी व अंग्रेजी में इसके बोल की जानकारी नीचे प्रदान करने वाले हैं।

श्री गणेश आरती – Sukh Karta Dukh Harta Aarti Lyrics in Hindi

Sukh Karta Dukh Harta Aarti Lyrics in Hindi

सुख करता दुखहर्ता, वार्ता विघ्नाची
नूर्वी पूर्वी प्रेम कृपा जयाची
सर्वांगी सुन्दर उटी शेंदु राची
कंठी झलके माल मुकताफळांची

जय देव जय देव, जय मंगल मूर्ति
दर्शनमात्रे मनःकमाना पूर्ति
जय देव जय देव

रत्नखचित फरा तुझ गौरीकुमरा
चंदनाची उटी कुमकुम केशरा
हीरे जडित मुकुट शोभतो बरा
रुन्झुनती नूपुरे चरनी घागरिया

जय देव जय देव, जय मंगल मूर्ति
दर्शनमात्रे मनःकमाना पूर्ति
जय देव जय देव

लम्बोदर पीताम्बर फनिवर वंदना
सरल सोंड वक्रतुंडा त्रिनयना
दास रामाचा वाट पाहे सदना
संकटी पावावे निर्वाणी रक्षावे सुरवर वंदना

जय देव जय देव, जय मंगल मूर्ति
दर्शनमात्रे मनःकमाना पूर्ति
जय देव जय देव

शेंदुर लाल चढायो अच्छा गजमुख को
दोन्दिल लाल बिराजे सूत गौरिहर को
हाथ लिए गुड लड्डू साई सुरवर को
महिमा कहे ना जाय लागत हूँ पद को

जय जय जय जय जय
जय जय जी गणराज विद्यासुखदाता
धन्य तुम्हारो दर्शन मेरा मत रमता
जय देव जय देव

अष्ट सिधि दासी संकट को बैरी
विघन विनाशन मंगल मूरत अधिकारी
कोटि सूरज प्रकाश ऐसे छबी तेरी
गंडस्थल मद्मस्तक झूल शशि बहरी

जय जय जय जय जय
जय जय जी गणराज विद्यासुखदाता
धन्य तुम्हारो दर्शन मेरा मत रमता
जय देव जय देव

भावभगत से कोई शरणागत आवे
संतति संपत्ति सबही भरपूर पावे
ऐसे तुम महाराज मोको अति भावे
गोसावीनंदन निशिदिन गुण गावे

जय जय जी गणराज विद्यासुखदाता
धन्य तुम्हारो दर्शन मेरा मत रमता
जय देव जय देव

Sukh Karta Dukh Harta Aarti Lyrics in English

Sukh karta Dukh harta Varta Vighnachi
Nurvi Purvi Prem Krupa Jayachi
Sarvangi Sundar Uti Shendurachi
Kanti Jhalke Maal Mukataphalaanchi

Jaidev Jaidev Jai Mangal Murthi
Darshan Maatre Man: Kaamna Phurti Jaidev Jaidev

Ratnakhachit Phara Tujh Gaurikumra
Chandanaachi Uti Kumkumkeshara
Hirejadit Mukut Shobhato Bara
Runjhunati Nupure Charani Ghagariya

Jaidev Jaidev Jai Mangal Murthi
Darshan Maatre Man: Kaamna Phurti Jaidev Jaidev

Lambodar Pitaambar Phanivarvandana
Saral Sond Vakratunda Trinayana
Das Ramacha Vat Pahe Sadana
Sankati Pavave Nirvani Rakshave Survarvandana

Jaidev Jaidev Jai Mangal Murthi
Darshan Maatre Man: Kaamna Phurti Jaidev Jaidev

Shendur Laal Chadhaayo
Achchhaa Gajamukha Ko
Dondil Laal Biraaje
Sut Gaurihar Ko
Haath Liye Gud
Ladduu Saaii Sukhar Ko
Mahimaa Kahe Na Jaay
Laagat Huun Pad Ko

Jai Jai Jai Jai Jai
Jai Jai Jai Ganaraaj
Vidyaasukhadaataa
Dhany Tumhaaro Darshan
Meraa Mat Ramataa
Jaidev Jaidev

Astha Sidhi Dasi
Sankat Ko Bairi
Vighan Vinashan
Mangal Murat Adhikari
Koti Suraj Prakash
Aise Chabi Teri
Gandasthal Madmastak
Jhulle Shashi Behari

Jaidev Jaidev
Jai Jai Jii Ganaraaj
Vidyaasukhadaataa
Dhanya Tumhaaro Darshan
Meraa Mat Ramataa
Jaidev Jaidev

Bhaavabhagat Se Koi
Sharanaagat Aave
Santati Sampatti
Sabahii Bharapuur Paave
Aise Tum Mahaaraaj
Moko Athi Bhaave
Gosaaviinandan
Nishidin Gun Gaave

Jaidev Jaidev Jai Mangal Murthi
Darshan Maatre Man: Kaamna Phurti Jaidev Jaidev

Jai Jai Jai Ganaraaj
Vidyaasukhadaataa
Dhanya Tumhaaro
Darshan Meraa Mat Ramataa
Jai Dev Jai Dev…

हम आशा करते हैं कि ऊपर दिए गई जानकारी सुखकर्ता दुखहर्ता की आरती आपको मिलने के बाद संतुष्टि हुई होगी। इसके अलावा अन्य पूजा समारोह के लिए या फिर मन की शांति के लिए किसी अन्य मंत्र, आरती या फिर भजन की जानकारी प्राप्त करने के लिए हमारे द्वारा दिए गए नीचे लेख की सूची जरूर पढ़े।

Related Articles:

 

Share.

Leave A Reply